Smt. Suman Ramesh Kothari

आप सभी को मेरा सादर प्रणाम !

मेरा जन्म राजस्थान के ब्यावर में हुआ। बचपन से ही परिवारजनों को समाज कार्यों में अग्रणी भूमिका निभाते देख मेरा लगाव सामाजिक कार्यों के प्रति भावनात्मक रूप से बढ़ता गया, पिताजी स्वर्गीय नेमीचंदजी मोदी मेरे आदर्श रहे हैं। हर बेटी को पढ़ लिखकर आगे बढ़ने का पूरा हक़ है, उनकी ऐसी सोच की वजह से ही मेरे बचपन को आकार प्राप्त हुआ। और यही सोच मेरी ज़िन्दगी का आदर्श बन गई।

मैंने बारहवीं कक्षा तक शिक्षण प्राप्त किया। विद्यार्थी जीवन में मुझे एन.सी.सी की एक अनुशासित छात्रा बनने का अवसर मिला। १९८१ में हॉकी के खेल में राजस्थान राज्य की ओर से राष्ट्रिय स्तर पर अपने खेल का प्रदर्शन किया।

1988 में श्री रमेश कोठारीजी से विवाह होने के पश्चात मिरा-भाईंदर मेरी कर्मभूमि बन गयी। श्री रमेशजी कोठारी इस शहर में हीरे के व्यापार और भवन निर्माण कार्य में हैं। व्यवसाय के साथ शंखेश्वर पार्श्वनाथ ग्लोबल मिशन ट्रस्ट के मध्यम से पूरा परिवार समाजिक कार्यों से जुड़ा है। ससुराल पक्ष से भी समाजसेवा की भावना को हमेशा प्रोत्साहन मिलता रहा है।

मीरा-भाईंदर शहर में भी कई सामाजिक संस्थाओं के साथ जुड़कर जनहित, सामाजिक व धार्मिक कार्यों को करने का मौका मिला। भारत विकास परिषद में प्रान्त समिती के दायित्व के रूप अपना योगदान दे रही हूँ। राजस्थान जैन संघ की अध्यक्षा के रूप में भी मुझे समाजकार्य करने का अवसर प्राप्त हुआ। साथ ही हरी सत्संग समिति की मीरा भाईंदर विभाग संरक्षक बनकर इस माध्यम से भी धार्मिक और सामाजिक कार्यों को आगे बढ़ाया। इसी तरह समाज के प्रति निष्ठा और कार्यशीलता की वजह से अनेक संस्थाओं द्वारा मुझे समाज की सेवा करने का मौका मिला। सहकार भारती की मीरा भाईंदर ने मुझे अध्यक्षा (महिला प्रकोष्ठ) के दायित्व दिया है।महिला उत्थान व सशक्तिकरण हेतु अपनी शुभचिन्तकों के साथ मिलकर जागृत महिला चैरिटेबल ट्रस्ट की शुरुआत की व कई जनहित कार्यों को आयाम दिया और इस प्रकार सामाजिक कार्यों का दायरा भी बढ़ता गया और उसी माध्यम से जनता के कार्यों को प्रशासनिक रूप से अधिक गति दे सकूं इसी सामाजिक भावना से भारतीय जनता पार्टी की महिला जिला अध्यक्षा के तौर पर कदम आगे बढ़ाकर लोगों से अधिक जनसंपर्क प्रस्थापित करने की दिशा में काम किया। समाज की समास्याओं को प्रशासन के सामने रखने के लिए और इन समस्याओं के जल्द से जल्द निवारण करने हेतु से २०१२ में मीरा भाईंदर महानगपालिका का चुनाव लड़ी और २०१२ से २०१७ तक नगरसेविका के रूप में अपने प्रभाग की समस्याओं को सुलझाने का कार्य किया। महिला एवं बालकल्याण समिति की सदस्य बनकर उस दिशा में अपने कार्य को आगे बढ़ाया। लोकप्रतिनिधि बनने के बाद समाज सेवा के कार्य को एक नयी दिशा मिली।

मेरी सखी एवं हमेशा लोगों की सेवा करने में अग्रणी श्रीमती गीता जैन जी ने समाजकार्य में हमेशा मेरा साथ दिया है। हमने महिलाओ की समस्या को देखते हुए नारी सशक्तिकरण फाउंडेशन की स्थापना की, इस कार्य को और आगे बढ़ाना है। देश की सभी महिलाओं को विकास की मुख्य धारा से जोड़कर नारी सशक्तिकरण फाउंडेशन के मुख्य उद्देश्यों को साकार करने हेतु प्रयासरत हूँ।

मैं सभी महिलाओं से आहवान करती हूँ की नारी सशक्तिकरण फाउंडेशन से जुड़कर अपनी और अन्य महिलाओं की समस्याओं का समाधान करते हुए एक सुखद जीवन व्यतीत करें।

धन्यवाद।

सस्नेह

श्रीमती सुमन रमेश कोठारी

नारी सशक्तिकरण फाउंडेशन

हमसे जुड़ें